99 का खेल ! Best Motivational Story { in Hindi } 2018 ! Short Story 2018



99 का खेल ! Best Motivational Story { in Hindi } 2018.


एक बहुत ही बड़े राज्य का राजा था | उसके महल में हर छोटी से लेकर बड़ी चीज उपलब्ध थी और उसे कोई भी कमी नहीं थी, फिर भी वह थोड़ा सा भी खुश और संतुष्ट नहीं रहता था | एक बार राजा अपने महल के अंदर टहल रहा था, तभी उसने वहां अपने काम करते हुए एक नौकर को देखा, वह बहुत खुशी से काम करते हुए करना गाना गाए जा रहा था | राजा ने उस नौकर को इतना खुश देखकर सोचा कि, मेरे पास इतनी बड़ी प्रजा है, हर चीज मेरे लिए उपलब्ध होते हुए भी मैं खुश नहीं हूं और यह नौकर उसके पास कुछ भी नहीं है, मेरे वहां नौकरी करने के बाद अपने घर चला जाता है, इसके बावजूद भी इतना खुश कैसे हैं |

राजा ने आदेश दिया कि इस नौकर को मेरे सामने लाया जाए, नौकर डरता हुआ राजा के पास आया और हाथ जोड़कर खड़ा हो गया | राजा ने उसे डरा हुआ देखकर कहा कि, 

डरो मत तुम से कोई गलती नहीं हुई है मैं बस एक प्रश्न का तुमसे उत्तर चाहता हूं कि

तुम्हारे पास धन जायजाद ना होने के बाद भी तुम इतने खुश कैसे हो ?

नौकर ने कहा महाराज मैं एक साधारण सा नौकर हूं, राजमहल में नौकरी करने के बाद अपने घर चला जाता हूं, आप की मेहरबानी से खाने के लिए खाना मिल जाता है और रहने के लिए छत, मेरी और मेरे परिवार को इससे ज्यादा की कोई चाह नहीं है |

मगर नौकर के जवाब से राजा को संतुष्टि नहीं मिल रही थी | राजा ने अगले दिन एक सलाहकार को बुलाया और सलाहकार को अपनी सारी परेशानी और उस नौकर के बारे में बताया ओर राजा ने सलाहकार से कहा कि, इसका सही कारण बताओ कि मैं खुश क्यों नहीं हूं, सलाहकार ने जवाब दिया महाराज मुझे लगता है, नौकर ने अभी 99 का खेल नहीं खेला है |  इसीलिए वह इतना खुश है |

राजा ने आश्चर्यचकित होकर पूछा कि 99 का खेल क्या होता है ?

Read Also– »ज़िंदगी इंसान को कुछ बनने के कुछ कर दिखाने के कितने मौक़े देती है 

सलाहकार ने कहा, आज रात आप एक पोटली में 99 सिक्के भरवा कर उस नौकर के घर के आगे रखवा दीजिए, आपको सब आसानी से समझ में आ जाएगा | सलाहकार के कहने के अनुसार राजा ने 99 सोने से भरी सिक्कों की पोटली नौकर के घर के बाहर रखवा दिए | सुबह उठकर जब नौकर ने दरवाजा खोला तो देखा कि, उसके दरवाजे के पास एक पोटली पड़ी हुई है वह उस पोटली को जल्दी से लेकर घर के अंदर आ गया, खोलकर देखा तो इतने सारे सिक्के देख कर उसके होश ही उड़ गए | वह तो बनो ख़ुशी के मारे पागल ही हुए जा रहा था, उसने जल्दी-जल्दी सिक्कों को गिनना शुरू किया

गिरने के बाद 99 सिक्के आए उसने सोचा कि, शायद यह 100 सिक्के हैं उसके गिनने में ही कोई प्रॉब्लम हुई है | उसने फिर उन सिक्कों को गिना, लेकिन मैं अभी भी 99 ही थे | वह मन ही मन सोचने लगा कि जरूर इस पोटली में सो सिक्के आए होंगे, एक सिक्का जरूर रास्ते में गिर गया होगा | इसके बाद वह पूरे दिन काम पर नहीं गया और पूरे दिन उस सिक्के को खोजने में समय निकाल दिया फिर रात को घर आया तो सोचा कि वह 100 सिक्के पुरे करके रहेगा, भले ही वह उसे मेहनत करके कमाना पड़े | उस दिन के बाद से वह बहुत मेहनत करने लगा और अपने परिवार वालों को भी काम में सहयोग के लिए कहता ताकि 100 सिक्के जल्दी से पूरे हो जाए | उस दिन के बाद से नौकर पूरी तरह बदल गया था वह और उसके परिवार वाले केवल 100 सिक्के पूरे करने के लिए मेहनत करते, रात में  वह सो नहीं पाते थे  यह सोच कर कि वह ऐसा क्या करें कि ज्यादा पैसे कमा सकें |

राजा उस पर निगरानी रखे हुए था | उस नौकर के व्यवहार में इतना बदलाव देखकर वह राजा बहुत ही आश्चर्यचकित था | राजा ने सलाहकार को बुलवाकर पूछा

कि आखिर नौकर में इतना परिवर्तन आया कैसे ?

Read Also– वह जो आपने 12 सालो की पढ़ाई में भी नहीं सीखा होगा 

इसका कारण क्या है सलाहकार ने अपनी बात को आगे बढ़ाते हुए कहा यह है 99 के खेल का मतलब लोग 99 को 100 करने के चक्कर में अपने आज को नष्ट कर देते हैं | 

हर समय और ज्यादा मेहनत करके नियत और भूख-प्यास खत्म करके और ज्यादा कमाने की कोशिश करने लगते हैं और हमेशा यही सोचते हैं कि मुझे इतना सा और मिल जाए फिर मैं बहुत खुश रहूंगा और कभी भी खुश और संतुष्ट नहीं हो पाते राजा को अपना उत्तर मिल चुका था राजा ने 1000 अशर्फियों से और सलाहकार को पुरस्कृत किया दोस्तों आज हम सभी लोग 99 का खेल खेलने में लगे हुए हैं आगे बढ़ने के नाम पर बस लालच को बढ़ाते जा रहे हैं तो तो बस आप यह जान लीजिए कि काम का आलस और पैसो का लालच हमें कभी भी महान नहीं बनने देता

आपका बहुमूल्य समय देने के लिए बहुत-बहुत धन्यवाद


दोस्तों, आप पढ़ रहे थे “99 का खेल ! Best Motivational Story”. इन कहानियों को भी अवश्य पढ़ें:

दोस्तों, यदि आपको “99 का खेल” कहानी पसंद आई, तो आप हमें अपने बहुमूल्य comments के माध्यम से अवगत करा सकते है. धन्यवाद.


NOTE ⇒ हमारा उद्देश्य ज्ञान को बांटना (share) है और यह काम हम अकेले नहीं कर सकते क्योंकि इस दुनिया का सारा ज्ञान हमारे पास नहीं है और हम भी आपकी तरह एक ही सामान्य व्यक्ति है जो दिन में खुली आँखों से सपने देखते है और उन्हें पूरा करने के लिए कोशिश करते रहते है | दोस्तों ज्ञान बांटने से बढ़ता है इसलिए आप भी HINDI के इस अनमोल मंच से जुड़े एंव अपने ज्ञान को हमारे साथ share करें, हम आपके द्वारा भेजे गए सभी अच्छे लेखों को Website पर publish करेंगे| आप अपने लेख हमें Whattsapp Number ( 85569-78342 ) पर भेज सकते है



 

Share Now

Post Author: sudhir singhmar

3 thoughts on “99 का खेल ! Best Motivational Story { in Hindi } 2018 ! Short Story 2018

    Sandhir

    (February 24, 2018 - 5:27 am)

    Mst h bhai carry on..

    ludozher

    (April 18, 2018 - 8:31 am)

    In-play wagers accounted for 75% of total sports betting turnover, while mobile betting was also up 59% year-on-year.
    Active sportsbook customers increased by 41% to 4.1 million, including a total of 2.3 million new depositing customers in the period.
    Although the privately-owned online operator declined to reveal its internet casino figures, it did confirm that its Playtech-powered poker vertical experienced a 3% increase in revenue. http://ludozher.info/bet365-greece.php Of course back in 2001, all online bookmakers were accepting bets on horse racing; greyhounds; English, Italian, German and Spanish soccer; and the major US sports: football, basketball, baseball, and hockey. Bet365 took it much further! Out of the gate, they offered odds on several dozen additional soccer leagues as well as took bets on athletics, bowls, boxing, cricket, cycling, darts, golf, international basketball and hockey, formula 1, motorbikes, NASCAR, pool, rugby, snooker, speedway, tennis, among other sports. ludozher.info/bet365 in this manner

    Prem

    (April 27, 2018 - 12:35 pm)

    Very very but post
    Is website pr bat bhi ache article pdne ko milte hai

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *