दो पत्थरों की प्रेरणा दायक कहानी – Best Motivational Story in Hindi 2018



दो पत्थर की प्रेरणा दायक कहानी – Best Hindi Story 2018 :-


एक समय की बात है एक कलाकार अपने औजारों को ठेले में भरकर जंगल की ओर चल देता है | थोड़ी दूर चलते चलते उसको रास्ते में एक बहुत ही सुंदर पत्थर लिखता है और वो   सोचता है कि मैं इस पत्थर से मैं एक मूर्ति बनाऊं | फिर वह अपने औज़ार निकालता है और औज़ार से पत्थर को तराशना शुरू कर देता है, तभी पत्थर में से एक आवाज आती है -अरे भाई जाने दो ना, दर्द होता है | यह सुनने के बाद कलाकार अपने औजारों को अपने हथेली में रख कर आगे चल देता है | उस कलाकार को रास्ते में और एक बहुत सुंदर दिखता है , वो इस पत्थर से मूर्ति बनाने का सोचता है |


वो औज़ारों को बाहर निकाल कर वो एक भगवान की मूर्ति तराशना शुरू कर देता है | इस पर इतने बढ़िया से मूर्ति को तरसता है, देखने से लगता है जैसे मानो पत्थर की मूर्ति अभी बोल पड़ेगी | फिर वह कलाकार अपनी कलाकृति को वहीं छोड़ कर आगे चल देता है, चलते चलते दो कलाकार एक गांव में पहुंचता है और देखता है, एक बहुत सुंदर मंदिर का निर्माण हुआ होता है और वहां के लोग आपस में बातचीत कर रहे होते, तभी उसे पता चलता है मंदिर का निर्माण हो गया है लेकिन अभी मूर्ति का निर्माण नहीं हुआ है, मूर्ति कहां से लाए, तभी वह कलाकार गावं के सरपंच जी से कहता है, आप मूर्ति की बिल्कुल चिंता ना करें, आप जंगल के रास्ते चले जाएं, आपको रास्ते में एक सुंदर मूर्ति मिल जाएगी, मैंने अभी उस मूर्ति को तराशा है, आप उसको इस मंदिर पर स्थापित कर सकते हैं | यह सुनने के बाद सरपंच जी कुछ लोगों के साथ जंगल के रास्ते चल देता है, उनको मूर्ति मिल जाती है और मूर्ति को लाकर मंदिर में स्थापित कर देते हैं लोग आते हैं और मूर्ति के सामने अपना सर झुकाते और मन्नत मांगते हैं | उस मंदिर में नारियल फोड़ने का कोई जगह नहीं होता तब सरपंच जी के मन में विचार आता है, नारियल फोड़ने के लिए मंदिर के बाद एक पत्थर होना चाहिए, तभी वह कलाकार सरपंच जी से पहले वाले पत्थर के बारे में बताता है, जिसको बनाना चाहता था बनाया नहीं था |

Read Also- चार घोड़ो की कहानी ! Best Motivational Story { in Hindi } 

यह सुनने के बाद सरपंच जी उस पत्थर को भी जंगल से उठा कर लाता है और मंदिर के बाहर रख देता है | अब जो भी मंदिर में पूजा करने आता है, उस पत्थर पर अपना नारियल फोड़ता है, फिर एक दिन मंदिर में कोई नहीं होता है | दोनों पत्थर आपस में बात कर रहे होते, जिस पत्थर पर आज सब नारियल फोड़ते हैं, वह पत्थर मूर्ति वाले पत्थर से बोलता है अरे वाह ! पत्थर तेरी क्या किस्मत है, तुझे आज भगवान बनाकर पूजा जा रहा है, तेरी इतनी आरती उतारी जा रही है | यह सुनने के बाद मूर्ति वाला पत्थर बोलता है अगर तुमने भी मेरी तरह सहन क्र लिया होता तो तुम आज मेरी जगह होते |

जी हां दोस्तों अगर वह पत्थर जिस पर आज नारियल फोड़ा जा रहा है, अगर वह उस दिन दर्द सहन कर लेता तो आज वह भगवान होता और उसकी पूजा और आरती हो रही होती | 

आज के प्रेरणादायक हिंदी कहानी से हमें क्या सीख मिलती है ?

दोस्तों आज की कहानी से हमें बहुत बड़ी सीख मिलती है| इस दुनिया में इंसान को पूजा जाता है जो सफल होता है और सफलता उन्ही लोगों को मिलती है जो अपने जीवन में कुछ बनने के लिए बहुत दर्द को झेलता है |

इसलिए दोस्तों आप सब से एक छोटी सी बात कहना चाहूंगा, आप जो भी कर रहे हैं आप उसको लग्न और कड़ी मेहनत से करिए चाहे वो पढ़ाई हो या फिर बिजनेस आपको सफलता जरूर मिलेगी दोस्तों इस कहानी की तरह हम सब की कहानी है जो लोग दर्द सहते हैं वह अपने जीवन में कुछ बड़ा बन पाते हैं और उन्हीं को लोग पूजते हैं |

Read Also-     बुलंद होसलों की कहानी- नेपोलियन बोनापार्ट की कहानी !


NOTE ⇒ हमारा उद्देश्य ज्ञान को बांटना (share) है और यह काम हम अकेले नहीं कर सकते क्योंकि इस दुनिया का सारा ज्ञान हमारे पास नहीं है और हम भी आपकी तरह एक ही सामान्य व्यक्ति है जो दिन में खुली आँखों से सपने देखते है और उन्हें पूरा करने के लिए कोशिश करते रहते है | दोस्तों ज्ञान बांटने से बढ़ता है इसलिए आप भी HINDI के इस अनमोल मंच से जुड़े एंव अपने ज्ञान को हमारे साथ share करें, हम आपके द्वारा भेजे गए सभी अच्छे लेखों को Website पर publish करेंगे| आप अपने लेख हमें Whattsapp Number ( 85569-78342 ) पर भेज सकते है


 

Share Now

Post Author: sudhir singhmar

1 thought on “दो पत्थरों की प्रेरणा दायक कहानी – Best Motivational Story in Hindi 2018

    Keto Fit Reviews

    (May 27, 2018 - 7:13 am)

    I wanted to thank you for this very good read!!
    I absolutely enjoyed every bit of it. I’ve got you
    saved as a favorite to check out new things you post? http://ketofitdiet.net/

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *